Maruti Alto 800 LXi

Views: 25273

Car Description

Model - Jan 2019

Kilometer - 5,000 K.M.

No. of Owner(s) - 1st Owner

Fuel Type - Petrol

Transmission - Manual

Car Registration - Delhi

Insurance Valid - 2021

All Documentation Available

Car Loan Facility Available

Negotiable Price - ₹ 3,45,000

03


Dec

Hyundai i20

Model - 2012 model
Kilometres - 1,50,000
No. of Owner(s) - 2nd Owner 
Fuel Type - Diesel

03


Dec

Maruti Eeco

Model - 2012 model
Kilometres - 47,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Petrol

03


Dec

Maruti Eeco

Model - 2010 model
Kilometres - 1,70,000
No. of Owner(s) - 2nd Owner 
Fuel Type - Petrol

03-12-2022


Dec

Mahindra XUV500

Model - 2012 model
Kilometres - 60,000
No. of Owner(s) - 2nd Owner 
Fuel Type - Diesel

03-12-2022


Dec

Maruti Alto K10

Model - 2011 model
Kilometres - 90,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Petrol

03-12-2022


Dec

Maruti Alto K10

Model - 2017 model
Kilometres - 54,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Petrol

03-12-2022


Dec

Maruti Vitara Brezza

Model - 2017 model
Kilometres - 48,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Diesel

03-12-2022


Dec

Mahindra Bolero

Model - 2015 model
Kilometres - 72,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Diesel

03-12-2022


Dec

Maruti Wagon R

Model - 2013 model
Kilometres - 51,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Petrol

03-12-2022


Dec

Maruti Alto800

Model - 2018 model
Kilometres - 22,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Petrol

03-12-2022


Dec

Maruti Swift Dzire

Model - 2012 model
Kilometres - 80,000
No. of Owner(s) - 2nd Owner 
Fuel Type - Petrol

03-12-2022


Dec

Toyota Innova

Model - 2014 model
Kilometres - 60,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Petrol

इस कार को खरीदने के लिए यह फॉर्म भरे

  सेकेंड हैंड कार खरीदते वक्त इन बातों का जरूर ध्यान दे:-

  • चेक करे गाड़ी पर कही दुबारा रंग तो नहीं हुआ है |
  • गाड़ी के टायर जरूर जांच ले, 2 या 3 साल चल सकते है या नहीं ?
  • गाड़ी में बैट्री जरूर जांच ले, कही कार्बन तो जमा नहीं है, अगर ऐसा है तो, गाड़ी स्टार्ट होने में परेशानी पैदा कर सकती है पानी के स्तर का भी निरीक्षण करें |
  • गाड़ी पर कही डेंट तो नहीं हुआ है ये जरूर जांच ले |
  • गाड़ी पर कही कोई स्क्रैच तो नहीं है गाड़ी को चारो तरफ से जांच ले |
  • गाड़ी के सीट कवर जरूर जांच ले, कही फटे न हो |
  • गाड़ी कितने किलोमीटर चली है इस पर जरूर ध्यान दे |
  • गाड़ी के सभी उपकरण और बटन चला कर देखे. एसी, हीटर के अलावा म्यूजिक सिस्टम, ऑक्स केबल और सिग्रेट लाइट भी टेस्ट करें |
  • सेकंड हैंड कार खरीदते समय गाड़ी के बीमा की स्थिति जरूर चेक करें. साथ ही देखें कि उसके खत्म होने में कितना समय बाकी हैूर लें.
  • गाड़ी खरीदते समय हालिया पॉल्यूशन सर्टिफिकेट जरूर लें|
  • रेजिस्ट्रेशन बुक: इसमें गाड़ी का नंबर, चेसिस नंबर, इंजन नंबर भी होता है. यदि गाड़ी का एक्सिडेंट होता है, तो उसे दूसरा चेसिस नंबर दिया जाता है. इसलिए आरसी और गाड़ी, दोनों में इसका मिलान करें |
  • टेस्ट ड्राइव कम से कम 4 से 5 किलोमीटर की लें. इसके अलावा क्लच व ब्रेक की स्थिति भी देखें |