Mahindra Scorpio S4

Views: 20234

Car Description

Model - Dec 2018 

No. of Owner(s) - 1st Owner

Kilometer - 45,000 K.M.

Fuel Type - Diesel 

Transmission - Manual

Car Registration - Haryana 

Insurance Valid - 2021

All Documentation Available

Negotiable Price - ₹8,25,000 

27


Sep

Maruti Wagon R

Model - 2017 model       
Kilometres - 1,13,000
No. of Owner(s) - 2nd Owner  
Fuel Type - Petrol

27


Sep

Mahindra TUV 300

Model - 2018 model       
Kilometres - 84,000
No. of Owner(s) - 2nd Owner  
Fuel Type - Diesel

27


Sep

Mahindra Scorpio

Model - 2013 model
Kilometres - 1,50,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Diesel

27


Sep

Mahindra Bolero

Model - 2008 model
Kilometres - 1,50,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Diesel

27


Sep

Maruti Omni

Model - 2017 model
Kilometres - 79,000
No. of Owner(s) - 2nd Owner 
Fuel Type - Petrol

27


Sep

Maruti Wagon R

Model - 2012 model
Kilometres - 92,000
No. of Owner(s) - 2nd Owner 
Fuel Type - Petrol

27


Sep

Maruti Eeco

Model - 2022 model
Kilometres - 5,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Petrol

27-09-2022


Dec

Mahindra Scorpio

Model - 2013 model
Kilometres - 89,000
No. of Owner(s) - 2nd Owner 
Fuel Type - Diesel

27-09-2022


Dec

Maruti Swift

Model - 2011 model
Kilometres - 70,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Petrol

27-09-2022


Dec

Maruti Wagon R

Model - 2011 model
Kilometres - 60,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Petrol

27-09-2022


Dec

Maruti Swift Dzire

Model - 2010 model
Kilometres - 86,000
No. of Owner(s) - 3rd Owner 
Fuel Type - Petrol

27-09-2022


Dec

Honda City

Model - 2015 model
Kilometres - 86,000
No. of Owner(s) - 1st Owner 
Fuel Type - Petrol

इस कार को खरीदने के लिए यह फॉर्म भरे

  सेकेंड हैंड कार खरीदते वक्त इन बातों का जरूर ध्यान दे:-

  • चेक करे गाड़ी पर कही दुबारा रंग तो नहीं हुआ है |
  • गाड़ी के टायर जरूर जांच ले, 2 या 3 साल चल सकते है या नहीं ?
  • गाड़ी में बैट्री जरूर जांच ले, कही कार्बन तो जमा नहीं है, अगर ऐसा है तो, गाड़ी स्टार्ट होने में परेशानी पैदा कर सकती है पानी के स्तर का भी निरीक्षण करें |
  • गाड़ी पर कही डेंट तो नहीं हुआ है ये जरूर जांच ले |
  • गाड़ी पर कही कोई स्क्रैच तो नहीं है गाड़ी को चारो तरफ से जांच ले |
  • गाड़ी के सीट कवर जरूर जांच ले, कही फटे न हो |
  • गाड़ी कितने किलोमीटर चली है इस पर जरूर ध्यान दे |
  • गाड़ी के सभी उपकरण और बटन चला कर देखे. एसी, हीटर के अलावा म्यूजिक सिस्टम, ऑक्स केबल और सिग्रेट लाइट भी टेस्ट करें |
  • सेकंड हैंड कार खरीदते समय गाड़ी के बीमा की स्थिति जरूर चेक करें. साथ ही देखें कि उसके खत्म होने में कितना समय बाकी हैूर लें.
  • गाड़ी खरीदते समय हालिया पॉल्यूशन सर्टिफिकेट जरूर लें|
  • रेजिस्ट्रेशन बुक: इसमें गाड़ी का नंबर, चेसिस नंबर, इंजन नंबर भी होता है. यदि गाड़ी का एक्सिडेंट होता है, तो उसे दूसरा चेसिस नंबर दिया जाता है. इसलिए आरसी और गाड़ी, दोनों में इसका मिलान करें |
  • टेस्ट ड्राइव कम से कम 4 से 5 किलोमीटर की लें. इसके अलावा क्लच व ब्रेक की स्थिति भी देखें |